नागरिक सेवा (रायपुर) मुखपृष्ठ|About | Contact | हिंदी मैं लिखिये  | Preview Chanel

 
Mar 2017
SuMoTuWeThFrSa
      1 2 3 4
5 6 7 8 9 10 11
12 13 14 15 16 17 18
19 20 21 22 23 24 25
26 27 28 29 30 31  
 
   
 


 
   
Preview Chanel
ताजा खबरें
Last Updated: Mon, 27 Mar 2017 15:25:30 -0500

Wed, 31 Aug 2011 22:05:00 +0000

राजधानी में बनेगा किसानों का अपना भवन: मुख्यमंत्री



मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि राजधानी रायपुर में छत्तीसगढ़ के किसानों के लिए लगभग दस करोड़ रूपए की लागत से किसान भवन का निर्माण किया जाएगा।
36गढ़ डाट इन
रायपुर 31 अगस्त(36गढ़ डाट इन) मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि राजधानी रायपुर में छत्तीसगढ़ के किसानों के लिए लगभग दस करोड़ रूपए की लागत से किसान भवन का निर्माण किया जाएगा।

यह किसानों का अपना भवन होगा, जो भवन कृषि उपज मंडी बोर्ड के सहयोग से बनेगा। इसमें लगभग दो सौ कमरे
होंगे। विभिन्न कार्यों के सिलसिले में राजधानी आने वाले किसानों को वहां ठहरने की सुविधा मिलेगी। उनके लिए वहां
समय-समय पर विशेष संगोष्ठी आदि का आयोजन भी किया जा सकेगा।

मुख्यमंत्री ने आज यहां अपने निवास पर भारतीय किसान संघ की छत्तीसगढ़ प्रदेश इकाई के प्रतिनिधि मण्डल को यह जानकारी दी। डॉ. सिंह ने कहा कि गांव, गरीब और किसानों का विकास राज्य सरकार की  पहली प्राथमिकता है।

किसानों के बिना कृषि प्रधान छत्तीसगढ़ राज्य की कल्पना भी नहीं की जा सकती। प्रतिनिधि मण्डल ने वर्ष 2010-11 में सर्वाधिक चावल उत्पादन के लिए प्रधानमंत्री द्वारा छत्तीसगढ़ को दिए गए कृषि कर्मण सम्मान का उल्लेख करते हुए इसके लिए मुख्यमंत्री को बधाई दी।

प्रतिनिधि मण्डल में किसान संघ के प्रदेश महामंत्री श्री नारायण प्रसाद गबेल सहित अन्य अनेक पदाधिकारी शामिल थे।इस मौके पर प्रतिनिधि मण्डल ने मुख्यमंत्री को छत्तीसगढ़ के किसानों की विभिन्न मांगों और समस्याओं के निराकरण के लिए 18 सूत्रीय ज्ञापन सौंपा, जिसमें राज्य के प्रत्येक नदी-नाले में आस-पास भू-जल संवर्धन के लिए स्टॉप डेम बनवाने और सिंचाई नहरों में उद्वहन सिंचाई योजनाओं की मांग भी शामिल है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने नदी-नालों पर पांच सौ से अधिक एनीकटों के निर्माण के लिए कार्य योजना बनाई है।
शिवनाथ नदी में एनीकटों की एक अच्छी श्रृंखला विकसित की गयी है।

उन्हाेंने यह भी कहा कि किसानों को स्थानीय स्तर पर खेतों के लिए पर्याप्त पानी मिल सके, इसके लिए राज्य सरकार लघु सिंचाई योजनाओं को प्राथमिकता दे रही है।

शाकंभरी योजना सहित कई योजनाओं में उन्हें  सिंचाई के संसाधन दिए जा रहे है। प्रतिनिधि मण्डल ने ज्ञापन में किसानों की आपसी सहमति से खेतों की अदला-बदली में पंजीयन शुल्क समाप्त करने, गन्ने की खेती के बढ़ते रकबे को ध्यान में रखकर कबीरधाम जिले में नवीन शक्कर कारखाने की स्थापना तथा राज्य में किसान आयोग के गठन का भी सुझाव दिया।

मुख्यमंत्री ने इन सभी सुझावों पर गंभीरता से विचार करने का आश्वासन दिया।

36गढ़ डाट इन







 

अन्य खबरें
»  पुलिया बनने से स्कूली बच्चों की राह हुई आसान
»  संजीवनी एक्सप्रेस ने बचायी हजारों लोगों की जिंदगी
»  महाराष्ट्र में जैविक खेती का अध्ययन कर रहे हैं...
»  दीपावली पूर्व मजदूरी भुगतान सुनिष्चित करने के...
»  आपदा जोखिम न्यूनीकरण के लिए आपदा का पूर्व आकलन ...
»  यौन कर्मियों के पुनर्वास के लिए हेल्प लाईन, ऑन...
»  नक्सल हमले में शहीद जवानों के प्रति राज्यपाल ने...
»  जिला स्तरीय जनसमस्या निवारण शिविर 11 अक्टूबर को ...
»  नक्सल बारूदी विस्फोट: मुख्यमंत्री ने की तीव्र...
»  बच्चों के विकास मे आईसीडीएस का महत्वपूर्ण...
»  मुख्यमंत्री ने गांधी जी और शास्त्री जी की जयंती...
»  नक्सल प्रभावित जिलों में महिला साक्षरता को बढ़ाने...

ALSO IN THE NEWS


छतीशगढ सरकार की प्राथमिकता क्या होनी चाहिये ?
बीदेशी पूंजी आकर्षित करना
कृषि
बेकारी समस्या दूर करना
राज्य के पर्यटन खेत्रों के बीकास
ब्यापक रूप से सड़क निर्माण

 

An odisha.com initiative copyright 2007-2008 36garh.in  email: 36garh@gmail.com